Wednesday, February 8, 2023
Home उत्तराखंड मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सूझबूझ से फतह किया पहला मोर्चा

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सूझबूझ से फतह किया पहला मोर्चा

प्रदेश में नौकरशाही को पटरी पर लाने की कोशिश कर रहे युवा मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आखिरकार अपनी सूझबूझ से पहला मोर्चा जीत लिया. नेतृत्व के मुद्दे पर पार्टी में वरिष्ठता को लेकर युवाओं को विभागों का बंटवारा दिए जाने से मंत्री नाखुश हैं. मंत्रियों की वरिष्ठता और अनुभव के आधार पर मिशन 2022 की रणनीति धामी की नई राजनीतिक पारी में झलकती है।

मंत्रिपरिषद की पहली बैठक में आधा दर्जन प्रस्तावों में युवाओं में उत्साह और भाजपा के एजेंडे का संचार करने का निर्णय मुख्यमंत्री धामी ने लिया. साथ ही उन्होंने अपनी मंशा भी जाहिर की कि वह 2017 के बाद लिए गए फैसलों को त्रिवेंद्र सिंह सरकार के विधानसभा चुनाव और बीजेपी की तीरथ सरकार को ध्यान में रखते हुए आगे भी लेते रहेंगे. मंत्रियों को विभागों के बंटवारे में धामी के प्रयोग का भी यही निहितार्थ है। धामी ने विभागों को सौंपने से ठीक पहले मंत्रियों को जिलों का प्रभार सौंपने में रणनीतिक कौशल की झलक भी दिखाई है।

क्षेत्रीय व जातीय संतुलन को तरजीह

मुख्यमंत्री धामी ने विभागों के वितरण में मंत्रियों के अनुभव के साथ एक क्षेत्रीय और जाति संतुलन बनाया। धामी खुद उधमसिंहनगर जिले के खटीमा से विधायक हैं। उनका गृह जिला पिथौरागढ़ है। विभागों के बंटवारे में जिन पांच मंत्रियों का भार बढ़ाया गया है उनमें गढ़वाल के तीन, उधमसिंह नगर और हरिद्वार से एक-एक मंत्री शामिल हैं। पिछली तीरथ सिंह रावत सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे बंशीधर भगत और बिशन सिंह चुफाल को दिए गए महत्वपूर्ण विभागों में कोई बदलाव नहीं किया गया है। धामी कैबिनेट में, कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल, अरविंद पांडे, गणेश जोशी के साथ-साथ रेखा आर्य, जिन्हें कैबिनेट मंत्री के रूप में पदोन्नत किया गया था, के विभागों में कोई बदलाव नहीं हुआ है। हरिद्वार जिले के स्वामी यतीश्वरानंद को ग्रामीण विकास जैसा वजनी विभाग दिया गया है।

विभागों के बंटवारे की ये रही कसौटी

मुख्यमंत्री धामी खुद भी विभागों के बंटवारे को लेकर जूझते रहे। मंत्रियों के साथ डिनर डिप्लोमेसी की नाराजगी को शांत करने की सफल कोशिश का असर विभागों के बंटवारे पर भी देखने को मिला है. मंत्रियों के अनुभव, वरिष्ठता के साथ योग्यता व क्षमता को भी परखा गया। जनाधार और पार्टी में सक्रियता व संघ निष्ठा ने भी वजनी विभागों के मुख्यमंत्री की पोटली से बाहर आने में भूमिका निभाई है।

Hill Livehttps://hilllive.in
Hilllive.in पर उत्तराखंड के नवीनतम और ब्रेकिंग हिंदी समाचार पढ़ें।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Kedarnath Yatra: पिछली यात्रा से सबक लेकर तैयारियों में जुटा प्रशासन, स्वास्थ्य सुविधाओं को...

0
रुद्रप्रयाग: विश्व विख्यात केदारनाथ धाम के कपाट खुलने से पहले स्वास्थ्य सेवाओं को दुरुस्त करने में प्रशासन जुट गया है. दरअसल साल 2022 की...

OnePlus 11 5G की कीमत लीक, Ultra से आधे दाम पर होगा लॉन्च? मिलेंगे...

0
Samsung ने अपनी फ्लैगशिप सीरीज को लॉन्च कर दिया है. अब बारी OnePlus की है. कंपनी अपना फ्लैगशिप स्मार्टफोन पहले ही चीनी बाजार में...

उत्तराखंड: वीडियो गेम की दुकान से नौकरियों का सौदागर बना BJP नेता, कई नेताओं...

0
हरिद्वार: उत्तराखंड में जेई और एई की भर्ती परीक्षा में धांधली करने वाला बीजेपी नेता संजय धारीवाल पुलिस की पकड़ से बाहर है। एसआईटी...

Chardham Yatra 2023: रजिस्ट्रेशन से लेकर हेली सर्विस तक ऐसी है तैयारी, जोशीमठ पर...

0
उत्तराखंड में साल 2023 चारधाम यात्रा की तैयारी पर्यटन विभाग ने अभी से शुरू कर दी है. चारधाम यात्रा को लेकर सरकार के स्तर...

WhatsApp New Feature : व्हाट्सएप का नया फीचर, 30 की जगह 100 फोटो-वीडियो भेज...

0
मेटा-स्वामित्व वाला मैसेजिंग प्लेटफॉर्म व्हाट्सएप एक नया फीचर शुरू कर रहा है जो यूजर्स को एंड्रॉइड बीटा पर चैट के भीतर 100 मीडिया तक...