रोडवेज ने तनख्वाह देने के लिए 106 बसें बेचीं

Ankur Singh

देहरादून| आर्थिक संकट से जूझ रहे रोडवेज ने कर्मचारियों का वेतन देने के लिए कंडम हो चुकी बसों को बेचना शुरू कर दिया है। सोमवार को पहली खेप में 106 बसें बेच दी गईं। इससे रोडवेज को दो करोड़ रुपये से ज्यादा की आमदनी हुई। उधर, गलत तरीके से एसीपी ले चुके कर्मियों के वेतन में यह धन समायोजित किया जाएगा। प्रथम चरण में 300 कर्मचारियों एसीपी मामले में दोषी पाए गए हैं।

कंडम बसों की ब्रिकी और एसीपी मामले की जांच रिपोर्ट आने से रोडवेज को कुछ राहत मिली है। रोडवेज के एमडी आशीष चौहान ने आयु पूरी कर स्क्रैप की श्रेणी में आ चुकी 420 और बसों को भी बेचने की हरी झंडी दे दी। सूत्रों के अनुसार,एसीपी के गोलमाल की वजह की वजह से बीते काफी समय से रोडवेज अधिकारी-कर्मचारियों को करीब ढाई करोड़ रुपये का अधिक भुगतान कररहा था।

सरकार के निर्देश पर इस मामले की जांच गड़बड़ी पाए जाने पर अब वसूली की प्रक्रिया शुरू हो रही है। एमडी ने बताया कि कर्मचारियों पर एकमुश्तरिकवरी का बोझ डालना उचित नहीं होगा। ऐसे में उनके लंबित वेतन से ही समायोजित करने का प्रयास किया जाएगा। जांच कमेटी को बाकी कर्मियों की जांच भी जल्द पूरी करने के निर्देश दे दिए हैं। बीते पांच माह के वेतन के रूप में रोडवेज प्रबंधन को कर्मचारियों को करीब 100 करोड़ रुपये देने हैं।

अचल संपत्तियां को बेचकर भी जुटाएँगे पैसा

एमडी ने बताया कि रोडवेज की काफी कीमती जमीने भी है। शासनसे उन्हें बेचने की अनुमति भी है, लेकिन पिछले कई वर्षों से यह प्रक्रिया शुरू नहीं हो पाई। रोडवेज की आर्थिक स्थिति में सुधार, कर्मचारियों को समय परवेतन देने के लिएइस वक्‍त रोडवेज को काफी धन की जरूरत है। जल्द ही जमीनों की बिक्री की प्रक्रिया को भी शुरू किया जाएगा।

शासन ने रोडवेज के ढांचे को नए सिरे से तैयारकरने और भावी योजनाओं की रिपोर्ट मांगी है । इसके लिए एक अध्ययन दल बना दिया है। शासन को रिपोर्ट जल्द दी जाएगी। –आशीष चौहान, एमडी, रोडवेज

Share This Article
Follow:
Ankur Singh is an Indian Journalist, known as the Senior journalist of Hill Live
Leave a comment