Thursday, February 2, 2023
Home उत्तराखंड उत्तराखंड : अपराध पर लगाम लगाने के लिए साइबर हेल्पलाइन शुरू

उत्तराखंड : अपराध पर लगाम लगाने के लिए साइबर हेल्पलाइन शुरू

साइबर अपराध पर लगाम लगाने के लिए राज्य में हेल्पलाइन नंबर (ई-सुरक्षा चक्र) शुरू किया गया है। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने नरेंद्रनगर से हेल्पलाइन डायल 155260 का वर्चुअल उद्घाटन किया। इस नंबर पर 24 घंटे शिकायत की जा सकती है।

एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने कहा कि ऑनलाइन वित्तीय अपराधों पर कार्रवाई करने में यह हेल्पलाइन नंबर काफी कारगर साबित होगा. इसे गृह मंत्रालय के सहयोग से शुरू किया गया है। यह मंत्रालय के सीएफसीएफआरएमएस पोर्टल (नागरिक वित्तीय साइबर धोखाधड़ी रिपोर्टिंग और प्रबंधन प्रणाली) के तहत काम करेगी।

अगर कोई साइबर क्राइम का सामना कर रहा है तो वह इस नंबर को कभी भी डायल कर सकता है। इससे दूसरे राज्यों से संचालित होने वाले संगठित साइबर अपराधियों पर भी अंकुश लगेगा। इससे महिलाओं और बच्चों से जुड़े साइबर अपराधों पर भी तेजी से कार्रवाई होगी। साइबर थाने में इसका कंट्रोल रूम बनाया गया है। यहां 24 घंटे स्टाफ की ड्यूटी रहेगी। उद्घाटन के मौके पर एएसपी चंद्रमोहन सिंह, डीएसपी अंकुश मिश्रा आदि अधिकारी मौजूद थे।

ऐसे काम करेगी हेल्पलाइन

  • कोई भी साइबर अपराध से पीड़ित जिसे आर्थिक नुकसान हुआ है वह 155260 पर कॉल कर सकता है।
  • ई-सुरक्षा चक्र हेल्पलाइन पीड़ित से जानकारी एकत्र करेगी और उन्हें एक व्हाट्सएप नंबर जारी करेगी।
  • पीड़ित को मांगी गई जानकारी में व्हाट्सएप पर अपनी शिकायत दर्ज करानी होगी।
  • एक सेल्फ जनरेटेड (ऑटो जेनरेटेड) व्हाट्सएप मैसेज आएगा, जो पीड़ित को गाइड करेगा।
  • यदि अपराध गैर-वित्तीय है, तो पीड़ित को ईमेल के माध्यम से पुलिस स्टेशन को सूचित करने के लिए कहा जाएगा।
  • इसके बाद उसकी शिकायत संबंधित जिले के साइबर सेल को भेजी जाएगी।
  • वित्तीय धोखाधड़ी के लिए, पीड़ित को अपराध का पूरा विवरण भरने के लिए कहा जाएगा।
  • तत्काल धनवापसी प्रयास के लिए तुरंत साइबर हेल्पलाइन सीएफ़सीएफआरएमएस पोर्टल पर विवरण दर्ज किया जाएगा।

ठगों की निगरानी में उत्तराखंड पुलिस का चौथा नंबर
साइबर ठगों की निगरानी में उत्तराखंड पुलिस भी देश में चौथे स्थान पर है। उत्तराखंड पुलिस ने गृह मंत्रालय के साइबर सेफ पोर्टल पर साढ़े तीन हजार से ज्यादा मोबाइल नंबर और बैंक खातों की डिटेल संदिग्ध सूची में अपलोड कर दी है। इन सभी नंबरों पर कंपनियों के जरिए कार्रवाई भी की जाएगी।

बुधवार को मंत्रालय के पोर्टल साइबर सेफ ने 1 अगस्त 2019 से 31 मई 2021 तक के आंकड़े जारी किए थे। उनके मुताबिक इस अवधि के दौरान हुई धोखाधड़ी और इसकी रोकथाम और कार्रवाई में राज्य पुलिस का विवरण भी शामिल है.  इस लिस्ट में देश में चौथा स्थान उत्तराखंड पुलिस का है। एसएसपी एसटीएफ ने बताया कि साइबर ठगों के नंबर और अकाउंट नंबर साइबर सेफ पोर्टल पर संदिग्ध सूची में अपलोड किए जाते हैं. ये वो नंबर हैं, जिनसे कॉल कर लोगों को ठगा गया है। या फिर धोखा देने का प्रयास किया गया था।

बैंक खाता वह होता है जिसमें धोखाधड़ी का पैसा चला गया हो। उत्तराखंड पुलिस ने इस तरह की पूरी जानकारी 3500 से ज्यादा साइबर पोर्टल पर अपलोड की है। ताकि भविष्य में उनके खिलाफ कार्रवाई की जा सके। इन नंबरों को भी ब्लॉक किया जा रहा है। ताकि भविष्य में वे लोगों को धोखा न दे सकें।

Hill Livehttps://hilllive.in
Hilllive.in पर उत्तराखंड के नवीनतम और ब्रेकिंग हिंदी समाचार पढ़ें।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

अवैध शराब के कारोबार वालो पर रुद्रप्रयाग पुलिस कस रही है शिकंजा,9 अवैध पेटी...

0
एस0ओ0जी0 रुद्रप्रयाग और थाना गुप्तकाशी पुलिस द्वारा संयुक्त चेकिंग के दौरान 09 पेटी शराब के साथ एक अभियुक्त को किया गया गिरफ्तार नशे के...

Ropeway in Kedarnath: पहले चरण के लिए 900 करोड़ की लागत से काम शुरू

0
रुद्रप्रयाग: विश्व विख्यात केदारनाथ धाम आने वाले यात्रियों के लिये अच्छी खबर है. आगामी वर्षों में अब केदारनाथ धाम आने वाले यात्रियों को रोपवे...

मीडिया को देख रफूचक्कर हुए पुलकित के पिता विनोद आर्या

0
जनपद पौड़ी के अंतर्गत लक्ष्मण झूला थाना क्षेत्र के वनंतरा रिसार्ट में कार्यरत महिला कर्मचारी की हत्या के मामले में मुख्य आरोपित पुलकित आर्या पुलिस...

मुख्य सचिव डॉ. एस.एस. संधु ने की हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर के क्षेत्र में...

0
मुख्य सचिव डॉ. एस.एस. संधु ने मंगलवार को सचिवालय में आयुष विभाग के अन्तर्गत प्रदेश में हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर के क्षेत्र में प्रगति...

देहरादून में 2 रूट पर दौड़ेगी वंदे मेट्रो, 23 स्टेशनों के बीच होगा सफर

0
देहरादून: हो सकता है कि देहरादून को वंदे मेट्रो की सौगात मिले। इसके संकेत कल पेश हुए बजट के बाद मिल रहे हैं। वित्त...