Saturday, December 3, 2022
Home हरिद्वार Uttarakhand : वैज्ञानिकों का दावा, महाकुंभ से फैला कोरोना संक्रमण, संतों ने...

Uttarakhand : वैज्ञानिकों का दावा, महाकुंभ से फैला कोरोना संक्रमण, संतों ने शोध को बताया गलत

Uttarakhand : वैज्ञानिकों का दावा, महाकुंभ से फैला कोरोना संक्रमण, संतों ने शोध को बताया गलत

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के प्रकोप के बीच इस बात को लेकर काफी बहस छिड़ गई है कि जोखिम उठाकर कुंभ मेला का आयोजन क्यों किया गया। देशभर में कोरोना की दूसरी लहर के लिए महाकुंभ को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार के सूक्ष्म जीव विज्ञान विभाग के वैज्ञानिकों ने शोध करने के बाद यह भी दावा किया है कि हरिद्वार कोरोना संक्रमण के प्रसार के लिए कुंभ मेला जिम्मेदार था, हालांकि संतों ने जीवविज्ञानी के इन दावों को खारिज कर दिया है।

वैज्ञानिक रमेश चंद्र दुबे गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय में सूक्ष्म जीव विज्ञान पढ़ाते हैं, जो कोरोना संक्रमण में तेजी लाने के लिए महाकुंभ के लिए जिम्मेदार हैं। वैज्ञानिक रमेश चंद्र का कहना है कि कुंभ मेले में बड़ी संख्या में श्रद्धालु और संत पहुंचे। इसके साथ ही कई राज्यों में चुनाव भी हुए। उसमें भारी भीड़ जमा हो गई। सरकार की गाइडलाइन का पालन नहीं किया गया, जिससे कोरोना महामारी बड़े पैमाने पर फैल गई।

महाकुंभ से लौटे लोगों ने दूसरे राज्य में भी कोरोना संक्रमण फैलाया। वैज्ञानिकों के मुताबिक, कोरोना वायरस के अलग-अलग थर्मल डेथ पॉइंट और थर्मल स्टेबिलिटी पॉइंट हैं। वातावरण के शुष्क रहने पर इस संक्रमण के जीवित रहने की संभावना कम हो सकती है। इसके विपरीत पानी, नमी और कम तापमान में यह संक्रमण 25-28 दिनों तक जीवित रह सकता है। कुंभ मेले में गंगा के तट पर लाखों लोगों की मौजूदगी से कोरोना को एक जीवित मानव शरीर मिला और यह फैलता चला गया।

जीवविज्ञानियों के दावे को संतों ने नकारा है। संतों का कहना है कि कुंभ मेले में यज्ञ-हवन की रस्में निभाई जाती हैं। हवन करने से वातावरण शुद्ध होता है। हवा में मौजूद सभी कीटाणु नष्ट हो जाते हैं। कुंभ से महामारी नहीं फैली। वहीं जब मीडियाकर्मियों ने पूर्व कैबिनेट मंत्री और वर्तमान भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक की राय जानना चाहा तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया. राज्य सरकार के मंत्री और विधायक इस मामले में चुप्पी साधे हुए हैं।

Hill Livehttps://hilllive.in
Hilllive.in पर उत्तराखंड के नवीनतम और ब्रेकिंग हिंदी समाचार पढ़ें।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here