Tuesday, November 29, 2022
Home उत्तराखंड क्या उत्तराखंड में बीजेपी को फिर बदलना होगा सीएम ? कांग्रेस नेता...

क्या उत्तराखंड में बीजेपी को फिर बदलना होगा सीएम ? कांग्रेस नेता ने बताई ये वजह

क्या बीजेपी को उत्तराखंड में एक बार फिर मुख्यमंत्री को बदलना होगा? वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व कैबिनेट मंत्री नवप्रभात ने बताया कि मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत विधानसभा में निर्वाचित नहीं हैं। ऐसे में मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालने के छह महीने के अंदर ही उन्हें सदन की सदस्यता हरहाल में लेनी होगी। नवप्रभात के अुनसार, लोक प्रतिनिधित्‍व अधिनियम,151ए के तहत सरकार के एक साल के कम कार्यकाल की स्थिति में उपचुनाव नहीं किया जा सकता है।

इस तरह की स्थिति में, 9 सितंबर के बाद मुख्यमंत्री के पद में तीरथ सिंह रावत के लिए यह मुश्किल होगा।उत्तराखंड में विधायकों के निधन के बाद दो विधानसभा सीटें रिक्त चल रही हैं, जबकि बीजेपी सरकार की अवधि मार्च 2022 में समाप्त हो रही है . नवप्रभत के अनुसार, बीजेपी हाईकमान को एक बार फिर उत्तराखंड में मुख्यमंत्री का चेहरा बदलना होगा।

वहीं दूसरी ओर, सल्ट उपचुनाव के परिणाम सामने आने के बाद अब सीएम तीरथ सिंह रावत के चुनावी पत्ते का इंतजार बढ़ गया है। तीरथ को नौ सितंबर तक विधानसभा की सदस्यता लेनी है। इस लिहाज से उन्हें इसी महीने अपने लिए चुनावी क्षेत्र का भी चयन करना होगा।

तीरथ सिंह रावत ने 10 मार्च को सीएम के रूप में शपथ ली। अब जब सल्ट उपचुनाव का परिणाम निकल चुका है तो इस बात पर सस्पेंस और बढ़ गया है कि तीरथ के लिए कौन सा विधायक सीट खाली करेगा। निर्वाचन प्रक्रिया से जुड़े अधिकारियों के मुताबिक उपचुनाव में भी सामान्य तौर पर तीन से चार महीने का समय लग जाता है। ऐसी स्थिति में, यदि सितंबर में किसी भी सीट पर चुनाव आयोजित किए जाते हैं, तो इसके लिए, सीट को मई तक रिक्त घोषित करना होगा। दूसरी तरफ, यदि उप-चुनाव सितंबर में आयोजित किए जाते हैं, तो उसके बाद चार महीने बाद, दिसंबर अंत या जनवरी  में, विधानसभा चुनावों के लिए आचार संहिता राज्य में लागू की जाएगी।

इसके कारण सीएम के चुनाव में हर किसी की रुचि बढ़ गई है। यदि स्रोतों का मानना ​​है, तो सीएम तीरथ सिंह रावत की अटकलें गंगोत्री विधानसभा सीट से उप-चुनाव लड़ने से भी तेज हो गई है। दूसरी तरफ, उत्तराखंड ने जून में वर्तमान विधानसभा में विपक्ष के नेता डॉ इंदिरा हृदयेश के रूप में अपना पांचवां सदस्य खो दिया। इससे पहले, 2017 के विधानसभा चुनावों में थराली, पिथौरागढ़, सल्ट और गंगोत्री से जीते विधायक का भी आकस्मिक निधन हो चुका है।

इसमें से पहले तीन के लिए उपचुनाव भी हो चुका है। चौथी विधानसभा के अंतिम वर्ष तक भी दुर्भाग्य सदन का पीछा नहीं छोड़ रहा है। इस विधानसभा में अब तक पांच सदस्यों का आकस्मिक निधन हो चुका है। जो साढ़े चार साल के कार्यकाल में एक दुखद रिकॉर्ड है। इससे पहले, थाराली विधायक मगन लाल शाह, पिथौरागढ़ विधायक और मंत्री प्रकाश पंत, सल्ट विधायक सुरेंद्र सिंह जीना और गंगोत्री विधायक गोपाल रावत का निधन हो गया था। उपरोक्त चार विधायकों को सत्तारूढ़ भाजपा से चुना गया था। अब पांचवें विधायक विपक्ष के नेता डॉ इंदिरा हृदयेश के रूप में निधन हो गए हैं।

Hill Livehttps://hilllive.in
Hilllive.in पर उत्तराखंड के नवीनतम और ब्रेकिंग हिंदी समाचार पढ़ें।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here